जनप्रतिनिधि पत्रकार के भयादोहन से क्षुब्ध कोनी थाने में दी शिकायत।

जनप्रतिनिधि पत्रकार के भयादोहन से क्षुब्ध कोनी थाने में दी शिकायत

आरोपी ने नेता को एवीडेंस जमा करने कि दी चुनौती

 

बिलासपुर/कोनी—:कोनी थाने में 11 नवंबर को रमेश साहू ने जनप्रतिनिधि त्रिलोक श्रीवास के विरुद्ध एक जमीन पर अवैध कब्जे कि सिकायत कि थी आवेदक कि सिकायत को कोनी थाने ने एफआईआर के रूप में दर्ज किया है एक दिन बाद 13 नवंबर को त्रिलोक श्रीवास ने इसी प्रकरण में गोविंद शर्मा महफूज खान राकेश प्रताप सिंह और रमेश साहू के विरुद्ध अवैध रूप से पैसा मांगने जान से मारने कि धमकी देने एवं मानहानि के साथ सायबर एक्ट के संबंध में अपराध दर्ज करने कि मांग कि है त्रिलोक श्रीवास ने सिकायत में कहा कि वे पुर्व में सांसद प्रतिनिधि रहे है जनपद पंचायत बिल्हा अध्यक्ष है तथा वर्तमान में सर्वसेन समाज के अध्यक्ष है त्रिलोक श्रीवास कि पत्नी वर्तमान में जनपद पंचायत बिल्हा कि सभापति है आवेदक का कहना है कि कुछ दिन पुर्व जमीन दलाल रमेश साहू के साथ अन्य सभी लोग उससे मिले और बताया कि वे पेशे से पत्रकार है तथा उन्होंने बताया कि हमने आपकी जमीन के पीछे एक जमीन खरीदी है आप हमको अपनी जमीन से रास्ता दे अन्यथा हमारा जो नुकशान होगा उसकी भरपाई तुम्हे ही करनी होगी सिकायत में यह भी कहा गया है कि तीनो ने यह कहा कि हम पत्रकार है और आने वाले समय में चुनाव है तुम्हारे बारे में अनर्गल लिखेंगे तो तुम्हारा बड़ा नुकशान होगा सिकायत में कहा गया है कि त्रिलोक श्रीवास ने व्यक्तिगत रूप से पता किया तो यह ज्ञात हुआ कि रमेश साहू तथा गोविंद शर्मा आदि ने उनकी जमीन के पीछे कोई जमीन नही खरीदी है इससे यह स्पष्ट है कि जिस नुक्षानी कि बात कर के 20 लाख रुपए मांगा जा रहा है वह पत्रकारिता के आड़ में ब्लेकमेलिंग है सिकयातकर्ता का कहना है कि इन कथित पत्रकारों कि एक से अधिक सिकायते अन्य थानों में दर्ज है तथा इन्होने पत्रकार सुरक्षा के नाम पर एक संगठन भी खड़ा कर रखा है.जिसमे वे स्वयं को राष्ट्रीय पदाकारी बताते है त्रिलोक श्रीवास ने कहा कि कथित पत्रकारों ने मुझपर अवैध रेत निकासी का आरोप लगाकर भी रुपयों कि मांग कि मैंने अपने सामाजिक जिवन में स्वस्थ्य पत्रकारिता का सदा सम्मान किया है किन्तु किसी पत्रकार के भयादोहन से मै डरने वाला नही वही गोविंद शर्मा ने इस पुरी सिकायत पर कहा कि यदि कांग्रेस नेता के पास किसी भी रकम के डिमांड के संबंध में कोई फुटेज कैमरा रिकार्डिंग व्हाट्सएप सोसियल मीडिया का ट्विट हो तो वे थाने में जमा कर दे हम भी निष्पक्ष जांच चाहते है

vandana