देवरीखुर्द वार्ड नंबर 42 में कांग्रेस का प्रत्याशी 3 से निकलकर 13 में पहुंचा।

देवरीखुर्द वार्ड नंबर 42 में कांग्रेस का प्रत्याशी 3 से निकलकर 13 में पहुंचा

 

वापसी की उम्मीद हुई छीन

बिलासपुर:- देवरीखुर्द क्षेत्र के वार्ड नंबर 42 में कांग्रेस द्वारा गलत प्रत्याशी चयन का परिणाम यह हुआ कि कांग्रेस का प्रत्याशी आज तारीख तक मुख्य मुकाबले में शामिल ही नहीं हो पाया और मतदान 21 दिसंबर को होना है आने वाला 5 दिन यह कह कर देगा कि कांग्रेस मुकाबले में आप भी पाती है कि नहीं वार्ड नंबर 42 में9600 मतदाता हैं और 13 प्रत्याशी मैदान में है इस वार्ड में मुख्य मुकबला निर्दलीयों के बीच चल रहा है। जिसमें दिलीप कश्यप , लक्ष्मी यादव , राजेश सेंड ए वह बीजेपी के बीपी सिंह के बीच है।वार्ड के मुख्य मार्गो से लेकर गली मोहल्ले तक कांग्रेस के बैनर पोस्टर यदा-कदा ही दिखाई देते हैं दबी जबान में मतदाता यह भी कहते हैं कि कांग्रेस के प्रत्याशी के साथ एक बड़े नेता एवं उसके समर्थक ने गणित कर दिया और अंतिम समय तक प्रत्याशी की टिकट को अटका के रखा यही कारण है कि एक ओर असंतुष्ट होकर दिलीप कश्यप जैसे समर्पित कार्यकर्ता निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं और वार्ड में9000 वोट के लिए 13 लोग मैदान में उतर गए इसे चुनाव का उत्साह नहीं कांग्रेस के प्रबंधन की कमजोरी ही कहा जाएगा। प्रचार में मतदाताओं के बीच अपने मुद्दे को ठीक से न रख पाने के बाद कांग्रेस प्रत्याशी और उसके शिफासलार दिलीप कश्यप की शिकायतों को प्राथमिकता दे रहे हैं। आश्चर्य की बात यह है कि जिन शिकायतों को लेकर अब कांग्रेस को होश आ रहा है वह सब शिकायतें निर्वाचन अधिकारी के पास तब करनी थी जब नाम निर्देशन पत्र की जांच हो रही थी।इस वार्ड में विजयनगर जैसी पास कॉलोनी है तो देवरीडीह ,सतबहिनी मंदिर और नहर पारा जैसे स्लम भी हैं। गुटिय राजनीति के हिसाब से कांग्रेस का प्रत्याशी महंत गुट का है। जिस कारण शहर कांग्रेस की ओर से वहां ध्यान भी नहीं दिया जा रहा निर्दलीय दिलीप कश्यप के चुनाव चिन्ह नारियल का झाड़ और सेंडे की सीडी प्रचार में आगे दिखाई देते हैं।

vandana