NTPC के राखड़ डैम पर कार्य कर रहे राजिस्थान के बिना नंबर प्लेट वाली ट्रैक्टर, RTO अधिकारी ने दिया जांच का आदेश

NTPC के राखल डैम पर कार्य कर रहे राजिस्थान कि बिना नंबर प्लेट वाली ट्रैक्टर, RTO अधिकारि ने दिया जांच का आदेश

भूषण श्रीवास

बिलासपुर – एनटीपीसी सीपत क्षेत्र में भीषण गर्मी के दौरान राखल उड़ने की समस्या इन दिनों गंभीर रूप ले लेती है समय-समय पर पानी का छिड़काव किए जाने का निर्देश है किंतु कार्यस्थल पर लगातार मॉनिटरिंग ना होने के कारण गंभीर लापरवाही होना आम बात है लेकिन उससे अधिक लापरवाही इन दिनों एनटीपीसी प्रभावित ग्राम रॉक में देखी जा रही है।दरअसल राखल डेम के आसपास इन दिनों मेस्सी फर्गुसन कंपनी के ट्रैक्टर दर्जनों की संख्या में चल रहे हैं इन ट्रैक्टरों में नंबर प्लेट नहीं लगी हुई है इससे यह पता ही नहीं चलता कि यह ट्रैक्टर छत्तीसगढ़ के हैं किस जिले के हैं या राज्य के बाहर कहीं से आए हैं इस संदर्भ में जब राखल डैम के नीचे स्थित जेपी एसोसिएट के साइड ऑफिस से बात की गई तो उन्होंने ट्रैक्टर कांट्रेक्टर लाल मोहम्मद का नंबर दिया। उससे बात करने पर पता चला कि या सारी ट्रैक्टर राजस्थान की है।

ट्रैक्टर चला रहे ड्राइवरों से बातचीत करने से यह भी समझ आया कि उनके साथ कुछ छल हो रहा है वे लगातार यह कहते थे कि वह कंपनी की नौकरी कर रहे हैं कंपनी का नाम एनटीपीसी है और हर महीने 8000 रुपए मिलता है ट्रैक्टर किसका है इस प्रश्न पर वह चुप हो जाते हैं राखड़ डैम के आसपास इन दिनों लगभग 13 ऐसे ट्रैक्टर चल रहे हैं जिन पर कोई भी पंजीयन क्रमांक नहीं लिखा है इस संदर्भ में आरटीओ बिलासपुर से बात की गई तो उन्होंने ने कहा कि कार्यस्थल पर जांच के लिए टीम को भेजा जाएगा जब इसी संदर्भ में एनटीपीसी जनसंपर्क अधिकारी से पूछा गया तो उन्होंने पहले फोटो के साथ प्रश्नावली की मांग की और कहा कि रविवार होने के कारण जवाब देना कठिन है जबकि क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी ने तुरंत कार्यवाही आश्वासन दिया। सूत्रों के हवाले से खबर है कि एनटीपीसी में इन दिनों कमीशन का खेल धड़ल्ले से जबरदस्त चल रहा है। कंपनी के बहुत सारे काम आउटसोर्सिंग पर दे दिए जाते हैं और एनटीपीसी और अनुबंध करता कंपनी के बीच जो अनुबंध निष्पादित होता है उसकी शर्तों का खुलासा नहीं किया जाता है। कार्यस्थल पर भी इसका प्रदर्शन नहीं होता है राखड़ डैम के आसपास इन दिनों मनमर्जी के समाचार मिल रहे हैं। कुछ दिन पूर्व गतौरा पहुंच मार्ग के किसानों ने भी आंदोलन किया था। उनका कहना था कि मुख्यमंत्री ग्रामीण सड़क से राखड़ परिवहन होने के कारण पूरा रोड खराब हो गया। एनटीपीसी अपना सामाजिक दायित्व नहीं निभाती वही ग्रामीणों पर दबाव बनाने की नियत से राखड़ का परिवहन करने वाले ठेकेदारों ने गतौरा सरपंच के खिलाफ एक नहीं दो दो थानों में लूट का f.i.r. करा दिया था। ऐसे लगता है कि बाहरी ठेकेदार छत्तीसगढ़ के जनता पर वैसे शासन करना चाहते हैं और एनटीपीसी के अधिकारी ऐसे मामलों में उन ठेकेदारों के साथ खड़े हो जाते हैं जो उन्हें चढ़ावा देते हैं।

vandana