राज्यपाल पुरस्कृत शिक्षक काल्विन का हुआ अभिनंदन

राज्यपाल पुरस्कृत शिक्षक काल्विन का हुआ अभिनंदन

जिला शिक्षा अधिकारी दिनेश कौशिक के मुख्य आतिथ्य में हुआ समारोह 

चांपा-05 सितंबर शिक्षक दिवस के अवसर पर छ.ग.की महामहिम राज्यपाल सुश्री अनुसुइया उइके, माननीय मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, माननीय शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम की गरिमामय उपस्थिति में राज भवन रायपुर में आयोजित प्रदेश स्तरीय शिक्षक सम्मान समारोह 2021 में नगर के उच्च वर्ग शिक्षक अभिषेक कालविन श्रेष्ठ शिक्षक के रूप में सम्मानित किए गए। महामहिम राज्यपाल से सम्मानित होने के पश्चात उनके चांपा आगमन पर रेलवे स्टेशन में पहुंच कर नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष प्रदीप नामदेव, चेंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष राजन गुप्ता, पालिका पार्षद संतोष जब्बल, तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष राम किशोर शुक्ला, शिक्षक गण, गणमान्य नागरिकगण, एवं चांपा के लोगों के द्वारा आत्मीय अभिनंदन किया गया। इसके पश्चात बैंड बाजे एवं आतिशबाजी के साथ नगर भ्रमण कराते हुए महामहिम से पुरस्कृत शिक्षक अभिषेक कालविन को अभिनंदन समारोह स्थल आरक्षी केंद्र पूर्व माध्यमिक विद्यालय थाना चौक चांपा में लाया गया जहांआरक्षी केंद्र शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला चांपा में आशीर्वाद एवं सम्मान समारोह का आयोजन जिला शिक्षा अधिकारी दिनेश कौशिक के मुख्य आतिथ्य में किया गया। इस समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप में राज्यपाल पुरस्कृत प्राचार्य श्रीमती कुमुदिनी द्विवेदी, राष्ट्रपति पुरस्कृत शिक्षक परमेश्वर स्वर्णकार, महामहिम राज्यपाल पुरस्कृत शिक्षक राजेन्द्र जायसवाल, विकासखंड समन्वयक हीरेंद्र बेहार ,महेंद्रधर दीवान, धनीराम वाद्यक,बसंत चतुर्वेदी,जनभागीदारी समिति के अध्यक्ष श्रीमती संगीता अग्रवाल एवं उच्चतर माध्यमिक विभाग के जनभागीदारी समिति के अध्यक्ष श्रीमती शर्मिष्ठा कंसारी मंच में उपस्थित थे। 

अभिनंदन समारोह को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि जिला शिक्षा अधिकारी दिनेश कौशिक ने कहा कि शिक्षकों के पुरस्कार का मापदंड उनका विद्यार्थी होता है। एक सफल विद्यार्थी का निर्माण करने में ही एक शिक्षक की महत्ता निहित है। सम्मान प्राप्त करने के पश्चात अपने छात्रों के प्रति शिक्षक की जवाबदारी और भी बढ़ जाती है। विशिष्ट अतिथि श्रीमती कुमुदिनी द्विवेदी ने कहा कि 05 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाने की परंपरा गुरुओं के प्रति समाज के असीम आदर का परिचायक है। एक शिक्षक की सोच मां की तरह होनी चाहिए। उन्हें सहज व स्नेहभाव से पढाना चाहिए।वास्तव में बच्चे तो कच्चे मिट्टी के समान होते हैं और उन्हें स्वरूप देना गुरु के ऊपर निर्भर होता है।परमेश्वर स्वर्णकार ने कहा कि भारतीय संस्कृति में गुरुओं को सर्वोपरि स्थान प्रदान किया गया है। एक शिक्षक की यह जिम्मेदारी है कि वह अपने इस सम्मान को सदा बनाए रखने का प्रयास करें। विकासखंड समन्वयक हीरेन्द्र बेहार ने संबोधित करते हुए कहा कि एक शिक्षक या अध्यापक बनने से बड़ा कोई कार्य नहीं है। यह विश्व का सबसे दुर्लभ एवं महान पेशा है जो सभी पेशेवरों का निर्माण करता है। इस अवसर पर ग्लोबल टीचर्स चयन समिति के छग चेयरमैन राजेंद्र जायसवाल ने कहा कि शिक्षक वह महान व्यक्तित्व है,जो हमेशा सफलता की राह दिखाता है। अभिनंदन कार्यक्रम का संचालन करते हुए रविंद्र द्विवेदी ने कहा कि-

सतगुरु सम कोई नहीं सात दीप नौ खंड।

तीनो लोक न पाइए अरू इक्कीस ब्रह्मांड।।

समारोह का शुभारंभ विद्या की अधिष्ठात्री देवी मां सरस्वती के चित्र एवं पूर्व राष्ट्रपति सर्वपल्ली डॉक्टर राधाकृष्णन के छाया चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलित कर मुख्यअतिथि एवं विशिष्ट अतिथियों ने किया। इसके पश्चात मुख्य अतिथि जिला शिक्षा अधिकारी दिनेश कौशिक जी का स्वागत शाल, श्रीफल, गुलदस्ता, पुष्प, चंदन,के साथ महेंद्र धर दीवान,परमेश्वर स्वर्णकार राजेंद्र जायसवाल, विजय थवाईत, गोपेश्वर कहरा, भुवनेश्वर देवांगन के द्वारा किया गया। सभी विशिष्टअतिथियों के मंचासीन होने के पश्चात इनका स्वागत पुष्पाहार, पुष्पगुच्छ शाल, श्रीफल भेंटकर किया गया। मुख्य अतिथि जिला शिक्षा अधिकारी दिनेश कौशिक ने मंचस्थ राज्यपाल से सम्मानित उच्च वर्ग शिक्षक अभिषेक कालविन का सम्मान शाल व श्रीफल, गुलदस्ता भेंट कर किया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि द्वारा शिक्षक कालविन को ग्लोबल टीचर्स दिल्ली से प्राप्त राष्ट्रीय गुरु गौरव विद्या रत्न अवार्ड,बैच,मैडल,वस्त्रम, अपने करकमलों द्वारा प्रदान किया। इस अवसर पर मंचस्थ सभी अतिथियों के द्वारा राज्यपाल पुरस्कृत शिक्षक कालविन का आत्मीय स्वागत किया गया।

शिक्षक अभिषेक कालविन के द्वारा अभिनंदन समारोह में उपस्थित मुख्य अतिथि जिला शिक्षा अधिकारी दिनेश कौशिक जी को प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया। अभिनंदन समारोह के अवसर पर नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष प्रदीप नामदेव, पालिका में नेता प्रतिपक्ष पुरुषोत्तम शर्मा, छत्तीसगढ़ शिक्षक संघ जिला इकाई के अध्यक्ष धन्य कुमार पांडेय, पवन जैन, असफाक खान, प्रदीप श्रीवास विजय थवाईत, श्रीराजेंद्र कुमार जायसवाल ,भुवनेश्वर देवांगन ने गुलदस्ता भेंटकर स्वागत किया। छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन के प्रांतीय उपाध्यक्ष बसंत चतुर्वेदी,बोधी राम साहू,माखनलाल राठौर, उमेश तेंबुलकर,शिक्षक पटेल ने महामहिम से सम्मानित शिक्षक कालविन का पुष्पहार पहनाकर,कौशेय वस्त्र भेंटकर सम्मान किया।इस अवसर पर पूर्व माध्यमिक विभाग कन्या स्कूल चांपा के जनभागीदारी समिति के अध्यक्ष श्रीमती संगीता अग्रवाल, उच्चतर माध्यमिक विभाग जन भागीदारी समिति के अध्यक्ष श्रीमती शर्मिष्ठा कंसारी,मसीही महिला समाज की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अनीता प्रकाश एवं महिला समूह,अक्षर साहित्य परिषद के साहित्यकार तथा संवाद यात्रा के वरिष्ठ पत्रकार अनंत थवाईत, साहित्यकार शशिभूषण सोनी सहित विभिन्न विद्यालयों के शिक्षक शिक्षिकाओं ने कालविन जी को तिलक, चंदन,शाल श्रीफल भेंटकर सम्मानित किया।

राज्यपाल पुरस्कृत शिक्षक अभिषेक कालविन ने अपने अत्यंत भावुक उद्गार में कहा कि राजभवन रायपुर में आतिथ्य पाकर महामहिम राज्यपाल से सम्मानित होना मेरे जीवन का बेहद सुखद, मूल्यवान व ऐतिहासिक पल रहा जिसे मैं कभी नहीं भूल सकता।आप सभी का अनवरत स्नेह व शुभाशीष मेरे साथ है। यह सम्मान मुझे आप सभी के आशीर्वाद के बदौलत प्राप्त हुआ है। यह सम्मान चांपा नगर, विद्यालय, एवं आप सभी का है।

समारोह का संचालन शिक्षक आर. के. द्विवेदी तथा अंत में आभार प्रदर्शन शिक्षक गोपेश्वर कहरा ने किया। अभिनंदन समारोह में प्रमुख रूप से कुसुम आपकी, गायत्री बरेठ,नाज़नीन खान, अनीता सावरकर ,सरोजिनी सोनी,अर्चना शर्मा, श्रीमती डी वैष्णव, श्रीमती शैल मरकाम, श्रीमती वंदना श्याम, श्रीमती कविता कांत,धीरज तंबोली, प्रीतेश फ्रेंकलिन,दिनेश शर्मा, टिंकू राजेंद्र देवांगन, राजेश बरेठ,अजय सुयश मसीह, सहित बड़ी संख्या में शिक्षा जगत से जुड़े लोग मौजूद थे।

vandana