*दशमी तिथि के श्राद्ध में श्री महन्त लालदास जी महाराज को याद किया मठ मंदिर ने*

*दशमी तिथि के श्राद्ध में श्री महन्त लालदास जी महाराज को याद किया मठ मंदिर ने*

*तर्पण, हवन, पूजन एवं ब्राह्मण भोज सहित विभिन्न कार्य क्रम संपन्न हुए*

जांजगीर-चांपा। माता शबरी की कर्मभूमि और भगवान शिवरीनारायण की पावन धरा में पितर श्राद्ध का पर्व श्रद्धा भक्ति पूर्वक मनाया जा रहा है इसमें पूरे पखवाड़े भर सभी लोग अपने -अपने परिजनों को श्रद्धा भक्ति पूर्वक तर्पण कर रहे हैं। इसी सिलसिले में श्री शिवरीनारायण मठ मंदिर में यहां के पूर्वाचार्य श्री महन्त लाल दास जी महाराज के दशमी तिथि का श्राद्ध का कार्यक्रम संपन्न हुआ। इसकी तैयारी के लिए शिवरीनारायण मठ पीठाधीश्वर एवं छत्तीसगढ़ राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष राजेश्री महन्त रामसुन्दर दास जी महाराज नवमी तिथि को ही शिवरीनारायण पहुंच चुके थे। दशमी तिथि को प्रातः कालीन बेला में वे सुबह 6:00 बजे महानदी के त्रिवेणी संगम तट पर बाबा घाट पहुंचकर श्री शिवरीनारायण मठ के प्रथम आचार्य श्री स्वामी दयाराम दास जी महाराज से लेकर श्री महन्तलाल दास जी महाराज सहित श्री दूधाधारी मठ एवं इनसे संबंधित सभी मठ मंदिरों के आचार्यों का उन्होंने तर्पण किया। तत्पश्चात मठ पहुंचकर हवन कार्य संपन्न किए। दोपहर में मठ में विराजित भगवान जगन्नाथ जी की विशेष पूजा अर्चना की गई। भगवान को भोग लगाने के पश्चात ब्राह्मण भोजन का आयोजन किया गया। इसमें नगर के प्रायः सभी विप्र परिवार के सदस्य उपस्थित हुए। उन्हें भोजन के पश्चात तिलक लगाकर आदर सहित विदाई दी गई। पितर श्राद्ध के संदर्भ में राजेश्री महन्त जी महाराज ने कहा कि हमारी वैदिक एवं सनातन परंपरा रही है कि हम वर्ष में एक बार आश्विन मास के पितर पक्ष में पूरे एक पखवाड़े तक निर्धारित तिथि के अनुसार अपने दिवंगत पूर्वजों को तर्पण, हवन, पूजन के द्वारा श्राद्ध अर्पित करते हैं। यह हमारी भारतीय संस्कृति का महत्वपूर्ण अंग है जिस का निर्वहन हम सभी को करना चाहिए। इससे पितर देवता तृप्त होते हैं और अपने वंशजों को सुख समृद्धि का आशीर्वाद प्रदान करते हैं। श्राद्ध एवं तर्पण का कार्यक्रम आचार्य कृष्ण बल्लभ शर्मा ने संपन्न कराया। पूरे कार्यक्रम को व्यवस्थित रूप से संचालित करने के लिए मठ मंदिर के मुख्तियार सुखराम दास जी, श्री त्यागी जी महाराज सहित मठ के सभी विद्यार्थी एवं कर्मचारी गण निरंतर लगे हुए थे इस अवसर पर विशेष रूप से संत श्री राम गोपाल दास जी महाराज, मठ मंदिर के ट्रस्टी ज्योतिन्द्रनाथ जी, रामकृष्ण पाली, विजय पाली, बृजेश केसरवानी, हेमंत दुबे, पूर्णेन्द्र तिवारी, वीरेंद्र तिवारी, शशिभूषण सोनी, योगेश शर्मा, निरंजन लाल अग्रवाल, ओमप्रकाश सुल्तानिया, देवा लाल सोनी, कमलेश सिंह, प्रमोद सिंह, जगदीश यादव, ज्ञानेश शर्मा, रामखिलावन तिवारी, अमर मिश्रा, मीडिया प्रभारी निर्मल दास वैष्णव सहित अनेक गणमान्य जन उपस्थित थे।

vandana